Health Insurance New Rules: IRDAI ने Health Insurance को लेकर जारी किये नए नियम, जाने यँहा 

मार्च 2024 में IRDA ने सभी हेल्थ इन्शुरन्स कंपनी के लिए कुछ गाइड लाइन (health insurance new rules) को जारी की थी जो 1 अप्रैल 2024 से लागू हो चुकी है।  इस अपडेट में आयु सिमा को को 65 साल से अधिक बढ़ा दी गयी है। ऐसे में यह लेख को आप जरूर पढ़े ताकी आपको हेल्थ इन्शुरन्स पालिसी अपडेट के बारे में तमाम नयी जानकारी अच्छे से मिल सके।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

Health Insurance new rules: अब 65 साल के ऊपर वाले भी ले सकेंगे health insurance

भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण यानी IRDA ने बड़ा बदलाव करते हुए स्वास्थय बीमा पॉलिसी खरीदने पर आयु सीमा हटा दी है। यानी अब 65 साल से अधिक उम्र के व्यक्ति भी अपना हेल्थ इंश्योरेंस करा सकेंगे। अब निजी कंपनियां उन्हें हेल्थ इंश्योरेंस देने से मना नहीं कर सकेंगी।

दरअसल, 1 अप्रैल 2024 से लागू नये नियमों के मुताबिक IRDA ने स्वास्थय बीमा पॉलिसी खरीदने पर आयुसीमा हटाते हुए 65 वर्ष से अधिक उम्र वालों को बीमा पॉलिसी खरीदने की अनुमति दी है। अब किसी भी उम्र का शख्स नया स्वास्थय बीमा खरीदने के लिए पात्र है।

पांच साल यानी 60 माह तक हेल्थ इंश्योरेंस कवरेज जारी रहने के बाद किसी भी बहाने से बुजुर्गों के क्लेम को इंश्योरेंस कंपनियां खारिज नहीं कर सकेंगी।

पहले आठ साल तक लगातार कवरेज के बाद यह सुविधा मिलती थी। अगर पहले के नियमों को देखा जाये तो हेल्थ इंश्योरेंस देने वाली कंपनियां किसी बहाने से या यह कहकर इंश्योरेंस क्लेम को खारिज कर देती हैं कि इस बीमारी के बारे में इंश्योरेंस कवरेज लेने के दौरान नहीं बताया गया था।

लेकिन नए नियमों में पांच साल तक कवरेज जारी रहने के बाद कंपनी कोई बहाना नहीं बना सकेगी। अब हर बीमारी को कवर करना होगा। कैंसर, एड्स वाले भी इस पॉलिसी का लाभ उठा सकेंगे।

Health Insurance New Rules: और क्या बदलाव हुए 

हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी, लाइफ इंश्योरेंस कंपनी, या जनरल इंश्योरेंस कंपनी जो भी प्रोडक्ट लेकर आएगी, उन्हें यह स्पस्ट करना होगा की उनका प्रोडक्ट ये दो में से किसी एक केटेगरी में आये। पहला – Indemnity Base Policy और दूसरा Benefit Based Policy.

हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी या फिर जनरल इंश्योरेंस कंपनी इंडेमिनिटी बेस्ड या फिर बेनिफिट बेस्ड, इंडिविजुअल या फिर ग्रुप बेस्ड सभी प्रकार के प्रोडक्ट ऑफर कर सकती है। वही लाइफ इंश्योरेंस कंपनी जिनके हेल्थ इंश्योरेंस प्रोडक्ट है,  वो सिर्फ बेनिफिट बेस्ड पालिसी ही इशू कर सकते हैं।

यानी किसी पालिसी के अंदर कोई इवेंट या नुकशान होने पर उन्हें एक फिक्स्ड अमाउंट का बेनिफिट को पास ऑन करना होगा।

वही अगर कोई व्यक्ति लोन लेता है और उस लोन का समय अवधि के साथ में अगर कंपनी कोई हेल्थ इंश्योरेंस देता है तो ऐसे में वो हेल्थ इंश्योरेंस लोन अवधि का समय समापत होने के बाद भी मान्य रहेगा। 

इसके अलावा आपको बता दें की ओवर सीज या डोमेस्टिक ट्रेवल इंश्योरेंस पालिसी को जनरल इंश्योरेंस और हेल्थ इंश्योरेंस द्वारा भी ऑफर की जा सकती है।

अब बात करें प्राइसिंग के बारे में IRDA का अपडेट को तो आपको बता दें की साल के बिच में पालिसी के कीमत को दोबारा रिवाइज नहीं किया जा सकता है। यानी कोई यूजर एक बार किसी पालिसी को खरीद लिया है तो पूरा साल उसका प्रीमियम फिक्स्ड रहेगा।

Health Insurance New Rules: IRDA के कुछ नए महत्वपूर्ण गाइडलाइन

IRDA ने सभी इंश्योरेंस कंपनी को यह गाइड लाइन दी है की इंश्योरेंस कंपनी को अपने यूजर को मैक्सिमम मनी इन्सटॉलमेंट ऑफर जैसे इयरली, क्वार्टेली, मंथली इत्यादि ऑफर करना चाहिए। जिससे की यूजर को सुविधा मिल सके।

इसके अलावा IRDA इस बात पर भी जोड़ देता है की हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी को ऐसे तरीके या ऐसे मैकेनिज्म बनाना चाहिए जिसके जरिये वो अपने पालिसी होल्डर्स को इंसेंटिमाइज़ कर सके।

यानी की अगर कोई यूजर कम उम्र में हेल्थ इंश्योरेंस को खरीदता है तो उन्हें कुछ एक्स्ट्रा बेनिफिट जरूर दिया जा सके। ताकि ज्यादातर लोगो को हेल्थ इंश्योरेंस लेने के लिए मोटीवेट किया जा सके।

इसके अलावा वैसे लोगो को भी कुछ एक्सट्रा इंसेंटिव दिया जाना चाहिए जो नियमित रूप से अपने इंश्योरेंस को रिन्यू करवाते हैं। इसके अलावावैसे कस्टमर जिन्हे बहुत कम क्लेम रहे हैं उनको भी कुछ एक्स्ट्रा बेफिट हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी द्वारा देना चाहिए।

साथ ही वैसे लोगो को भी एक्सट्रा बेनिफिट्स देना चाहिए जो अपना स्वास्थ का नियमित रूप से फिजिकल एक्सरसाइज की मदद से स्वस्थ रखते हैं। 

Health Insurance New Rules: कुछ बड़े बदलाव 

बहुत से हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी आयुष (AYUSH)  कवरेज को समान दर्जा नहीं देती है। आयुष (AYUSH) ट्रीटमेंट में आयुर्वेदा, योग, उनानी, सिद्धा और होमियोपैथी की मदद से बीमारी का इलाज किया जाता है। ऐसे में पालिसी होल्डर को पूरी तरह से हेल्थ इंश्योरेंस का बेनिफिट दिया जा सके।

IRDA इंश्योरेंस कंपनी को यह बोलती है की उन्हें अपने पालिसी को इस तरह से डिजाइन करना चाहिए की वे सभी ऐज ग्रुप को अपने इंश्योरेंस के अंदर शामिल करें। यानी की बच्चे से लेकर बूढ़े तक सभी लोगो के लिए हेल्थ इंश्योरेंस होना चाहिए।

ऐसे में हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी को अपने प्रोडक्ट डिजाइन के दौरान सीनियर सिटिज़न, बच्चे, मैटरनिटी इत्यादि सभी प्रकार के ग्रुप को अच्छे से डिफाइन करना चाहिए और सभी प्रकार के ऐज ग्रुप के लिए हेल्थ इंश्योरेंस पालिसी होना चाइये।

साथ ही हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी को पाने कवरेज को इस तरह से बनाना चाहिए की जितने भी पहले से मेडिकल कंडीशन  या बिमारी हो उनका कवरेज रखना चाहिए। यानी की अगर किसी व्यक्ति को पहले से कोई बीमारी है तो उसे भी वह बिमारी के लिए हेल्थ इंश्योरेंस का कवरेज मिलना चाहिए।

अगला जो अपडेट है वो है Pre Existing Disease और Specific Waiting Period के बारे में। पहले जो Pre Existing Disease का waiting period था वो था 48 महीने का।

लेकिन अब 01 अप्रैल 2024 से यह टाइम घटा कर अब 36 महीने कर दी गयी है। यानी की अब पिछले तीन साल के अंदर जो भी मेडिकल कंडीशन डाइग्नोस की गयी है और इसका मैक्सिमम वाइटिंग पीरियड अब 36 महीने की रहेगी।

अगर कोई व्यक्ति 05 साल का इंश्योरेंस पालिसी का पीरियड को कम्पलीट कर लेता है तो इंश्योरेंस कंपनी बाद में यह नहीं बोल सकती है की आपने तो हमे पहल इसके बारे में नहीं बताया या फिर आपने हमे पूरी बात नहीं बताई।

05 साल का पीरियड कम्पलीट करने के बाद आपका इंश्योरेंस को क्लेम करना ही पड़ेगा, अगर आप उस कंपनी को पूरी बात नहीं भी बताते हैं तो भी।

निष्कर्ष :

ऊपर हमने आपको IRDA April 2024 अपडेट के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी को बताया है ताकि जो भी व्यक्ति हेल्थ इंश्योरेंस का प्लान को खरीदते हैं या फिर पहल से पालिसी होल्डर है तो उन्हें पहले से यह पूरी जानकारी को पता हो सके। ताकि उन्हें इंश्योरेंस क्लेम करने में भी मदद मिल सके। अगर आपका कोई भी सवाल हो तो आप हमे कमेंट भी कर सकते.

Check Here: यूपी कन्या सुमंगला योजना (UP Kanya Sumangala Yojana) 2024 लाभ और ऑनलाइन तथा ऑफलाइन आवेदन की प्रक्रिया

Leave a Comment